के पग घुँगरू बाँध / Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera – Namak Halaal

Like Tweet Pin it Share Share Email

Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera गाने को किशोर कुमार ने गाया है और गाने के बोल अनजान ने लिखे है जबकि मुजिकबप्पी लहिरी ने दिया है Free Song Lyrics

Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera

Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera Hindi Lyrics

के पग घुँगरू बाँध / Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera
हे हे
बुज़ुर्गों ने

बुज़ुर्गों ने, फरमाया की पैरों पे अपने खड़े होके दिखलाओ
फिर यह ज़माना तुम्हारा है
ज़माने के सुर ताल के साथ चलते चले जाओ
फिर हर तराना तुम्हारा फसाना तुम्हारा है

अरे तो लो भैया हम
अपने पैरों के ऊपर खड़े हो गये
और मिलाली है ताल

दबालेगा दातों तले उंगलियाँ,लियान
ये जहाँ देखकर,देखकर अपनी चाल
वाह वाह वाह वाह

धनवाद

के पग घुँगरू
के पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
की पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
और हम नाचें बिन घुँगरू के

के पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
वो तीर भला, किस काम का है
जो तीर निशाने से चूके चूके चूके रे

की पग घुँगरू..
पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
नाची थी नाची थी नाची थी
हा

के पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी

आप अंदर से कुछ और
बाहर से कुछ और नज़र आते हैं
बखुदा शकल से तो चोर नज़र आते हैं
उमर गुज़री है सारी चोरी में
सारे सुख चैन बंद जुर्म की तिजोरी में

आप का तो लगता है बस यही सपना
राम नाम जपना पराया माल अपना
आप का तो लगता है बस यही सपना
राम नाम जपना पराया माल अपना

वतन का खाया नमक तो नमक हलाल बनो
फ़र्ज़ ईमान की ज़िंदा यहाँ मिसाल बनो
पराया धन पराई नार पे नज़र मत डालो
बुरी आदत है यह आदत अभी बदल डालो
क्योंकि, यह आदत तो वो आग है जो
इक दिन अपना घर फूँके फूँके फूँके रे

के पग घुँगरू..
पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
नाची थी नाची थी नाची थी

हा की पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी

मौसम ए इश्क़ में मचले हुए अरमान हैं हम
दिल को लगता है के दो जिस्म एक जान है हम
ऐसा लगता है तो लगने में कुछ बुराई नहीं
दिल यह कहता है आप अपनी हैं पराई नहीं
संगे मरमर की हाय, कोई मूरत हो तुम
बढ़ी दिलकश बढ़ी, खूबसूरत हो तुम

दिल दिल से मिलने का कोई महूरत हो प्यासे दिलों की ज़रूरत हो तुम

दिल चीर के दिखलादून मैं दिल में यहीं सूरत हसीन
क्या आपको लगता नहीं हम हैं मिले पहले कहीं

क्या देश है क्या जात है
क्या उम्र है क्या नाम है

अरे छोड़िए इन बातों से हमको भला क्या काम है
अजी सुनिए तो
हम आप मिलें तो फिर हो शुरू अफ़साने लैला मजनू लैला मजनू के

के पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी
और हम नाचें बिन घुँगरू के
के पग घुँगरू बाँध मीरा नाची थी

Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera Song Full Details

  • Song: Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera
  • Movie: Namak Halaal Release: 1982
  • Singers: Kishore Kumar
  • Music By: Bappi Lahiri
  • Lyrics By: Anjaan
  • Featuring Actors: Amitabh Bachchan, Smita Patil, Shashi Kapoor, Parveen Babi, Waheeda Rehman

Ke Pag Ghunghroo Bandh Meera आपको कैसा लगा कमेंट करके अपने विचारों से अवगत जरूर करें और इस गाने को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *